0 0
Read Time3 Minute, 16 Second

भारत मे आने वाले समय मे नौकरी मिलना लगभग नामुमकिन हो जाएगा मगर लोगो को इसका आभास होते हुए भी कुछ नही सोचते मुझे लगता है शायद अब लोगो ने सोचना ही बन्द कर दिया है।
लोगो को कोई ऐसा काम तलाशना चाहिए जो इंसान के अलावा कोई नही कर सकता या फिर एक आदमी को 5 लोगो का काम करने की तैयारी कर लेनी चाहिए क्योंकि 5 लाख का एक रोबोट 24 घंटे काम करेगा उसे भूख प्यास और बीमारी थकान जैसा कुछ नही होगा।

MTech BTech कर चुके लोगो को आज ही नौकरी मिल नही रही कॉम्पिटिशन इतना बढ़ गया है। नौकरी उसको ही मिलेगी जो लाखो लोगो मे सबसे ज्यादा काबिल होगा और वैसे भी करोड़ो लीग हर साल ग्रेजुएट होते हैं और job लगती है हजारो लोगो की मगर फिर भी पता नही किस उम्मीद पे लोग नौकरी करने के लिए नतमस्तक है।

Vacancy निकलती है 15000 लोगो की और आवेदन होता हैं लाखों में कुछ भी उल्टा सीधा नौकरी करने के लिए कसम खा लिया है लोगो ने काबिलियत होते हुए लोग दूसरों के लिए काम करते है वो भी कम तनख्वाह पर गुलामी ऐसी जंजीर है जिसमे बंधने पर शेर भी कुत्ता बन जाता हैं।

और दुर्भाग्य है इस देश का किसी जमाने मे 2 लाख अंग्रेजो ने 30 करोड़ भारतीयों पर 200 सालो तक राज किया और गुलाम बने रहे ये लोग शुक्र है उस जमाने मे भगत सिंह, मंगल सिंह,राजगुरु,आजाद और नेता जी, जैसे लोग थे जिनकी वजह से देश को आजादी मिली और उस जमाने मे भी गजब तरह के लोग थे उनके बारे में कुछ बोलना नही चाहता समझने वालों को इशारा काफी है।

समय है देशवासियों Job Seeker की मानसिकता से ऊपर उठो Job Creators बनिये और लोगो को सहयोग करके खुद भी सफल व्यक्ति बने।

मैं तो बस आग्रह ही करता हूँ निर्णय लेना या न लेना आपपर निर्भर करता है।

“कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।

मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि।।2.47।।”

अर्थात:- कर्म करना मात्र ही आपका सर्वाधिकार है और कर्म करते हुए फल की इच्छा कभी ना करे क्योंकि आपको क्या मिलेगा ये तो आपका कर्म ही निर्धारित करेगा आपको क्या मिला है ये आपके पहले किये हुए कर्म का ही फलस्वरूप है और आज जो आप करेंगे उसका फल भी इसीसे निर्धारित होगा….

कामयाबी तो मिलनी ही है वो तो नियत है मगर आप कर्म तो करो आज के लिए बस इतना ही
आपका Mentor Guide
Jayesh Mahakal ✍️

Jayesh Mahakal

You may also like